मप्र : फूड विभाग में ऐसे हैं हाल... तो कैसे हो प्रभावी कार्रवाई, जानिए पूरी वजह


 Satyakam News | 21/07/2021 10:49 PM


भोपाल। खाद्य पदार्थों में मिलावट क्यों नहीं रुक पा रहा है। आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि मध्य प्रदेश के खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग में 159 फूड इंस्पेक्टर में से 61 ऐसे हैं, जो 10 से लेकर 13 साल से एक ही जिले में पदस्थ हैं। सबसे ज्यादा 29 फूड इंस्पेक्टर है जो 2008 से एक ही जिले में पदस्थ हैं, जबकि 18 ऐसे हैं, जो 2013 से एक ही स्थान पर हैं। इनमें कई तो ऐसे भी हैं, जो अपनी पोस्टिंग के समय से ही एक ही जिले को संभाल रहे हैं।

बता दें कि नियम के मुताबिक एक फूड इंस्पेक्टर एक जिले में तीन साल तक ही रह सकता है, लेकिन विभाग में इसका पालन नहीं हो रहा है। हालांकि कुछ के साल में दो से तीन बार ट्रांसफर भी हुए लेकिन ऐसे मामले अपवाद हैं। ऐसे में यह बात आसानी से समझी जा सकती है कि बरसों से एक ही जिले में जमे रहने वाले फूड इंस्पेक्टर मिलावटखोरों के खिलाफ प्रभावी और सख्त कार्रवाई कैसे कर पाते होंगे? एक फूड इंस्पेक्टर ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि सालों से कोई फूड इंस्पेक्टर एक ही जिले में पदस्थ रहता है, तो यह अपने आप में ही भ्रष्टाचार का सूचक है। ऐसे फूड इंस्पेक्टर मिलावटखोरों पर या तो प्रभावी कार्रवाई नहीं करते हैं या वरिष्ठ अधिकारियों की कार्रवाइयों की खबर लीक कर मिलावटखोरों की मदद करते हैं।

Follow Us